Breaking News

Today’s History India स्वतंत्र भारत की क्रांति की पहली चिंगारी मंगल पांडेय की शहादत

Today’s History India Mangal Pandey’s Martyr स्वतंत्र भारत की क्रांति की पहली चिंगारी मंगल पांडेय की शहादत 1857 की भारतीय स्वतंत्रता क्रांति के जनक रहें वीर मंगल पांडेय जी को 8 अप्रैल के दिन ही अंगेजो ने फांसी दी थी.27 मार्च 1857 के दिन वीर मंगल पांडेय जी ने अंग्रेज़ो की गुलामी के खिलाफ हथियार उठा कर अंग्रेज़ सिपाहियों पर हमला कर के घायल कर दिया.

इसके बाद उनको गिरफ्तार करके 8 अप्रैल 1857 को आज के दिन ही फांसी की सजा दी गयी उनका ये महान बलिदान इतिहास के पन्नो में दर्ज हो गया और आगे चल कर स्वतंत्र भारत की क्रांति के लिए पहली चिंगारी का काम किया.

Today’s History India स्वतंत्र भारत की क्रांति की पहली चिंगारी मंगल पांडेय की शहादत

कौन थे मंगल पांडेय Who was Mangal Pandey

मंगल पांडे का जन्म 19 जुलाई 1827 को ऊपरी बलिया जिले के एक गाँव नगवा में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था, देवदार और विजय प्राप्त प्रांत (अब उत्तर प्रदेश में)। वे 1849 में बंगाल सेना में शामिल हुए थे मार्च 1857 में, पांडे 34 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री की 5 वीं कंपनी में एक निजी सैनिक के रूप में कार्यरत थे .

मंगल पांडे (19 July 1827 – 8 April 1857) एक भारतीय सैनिक थे, जिन्होंने 1857 के भारतीय विद्रोह के फैलने से पहले की घटनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थ। वे ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की रेजिमेंट में 34 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री (बीएनआई) में एक सिपाही (पैदल सेना) थे। 1984 में, भारत सरकार ने उसे याद करने के लिए एक डाक टिकट जारी किय। उनके जीवन और कार्यों को कई सिनेमाई प्रस्तुतियों में भी चित्रित किया गया हैं .

Diwali Rangoli Color The Designs And See The Magic

Rhea Chakraborty Hot Trending News How Rhea’s Sibling Showik Connected With Drug Dealer Basit Parihar

Islamic Status On Messengers Of God A Prophet Sent From God

Alone Girl And Boy Quotes Be Happy When You Are Alone

House Of Lehengas Bulk Custom Made Lehenga Manufacturers At Low Cost

Check Also

Ajab Gajab-30 कीलें पेचकस और लोहे का सरिया अपने पेट में ले कर घूम रहा था युवक _News 1 India Network_Image Source_Google

Ajab Gajab-30 कीलें पेचकस और लोहे का सरिया अपने पेट में ले कर घूम रहा था युवक

Ajab Gajab-30 कीलें पेचकस और लोहे का सरिया अपने पेट में ले कर घूम रहा …

%d bloggers like this: