Redmi 10_Image Source Google Mi Neck Band_Image Source Google

Lord Narasimha – Bhagavaan Narasinh Ko Prasann Karane Ke Lie Is Tarah Se Karen Pooja

Redmi 10_Image Source Google Mi Neck Band_Image Source Google

Lord Narasimha – Bhagavaan Narasinh Ko Prasann Karane Ke Lie Is Tarah Se Karen Pooja-अपने प्रिय भक्त को प्रहलाद को बचाने के लिए भगवान विंष्णु जी ने नरसिंह के रूप में अवतार लिया था.दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध करके हिरण्यकश्यप के द्वारा दिए जाने वाले कष्टों का अंत किया।

Lord Narasimha पराक्रम तथा शक्ति के देवता माने जाते हैं,श्रीहरि विष्णु के उग्र और शक्तिशाली अवतार के रूप में भगवान नरसिंह को माना जाता हैं। इनकी उपासना करके हर प्रकार की परेशानी,संकट,और भय से रक्षा होती है।पूजा के लिए कुछ बातो का अवश्य ध्यान रख कर भगवान नरसिंह की आराधना करके भगवान नरसिंह को प्रसन्न करें।

Lord Narasimha – Bhagavaan Narasinh Ko Prasann Karane Ke Lie Is Tarah Se Karen Pooja

सुबह ही घर की साफ़ सफाई करके पूरे घर को साफ सुथरा बनायें।

दोपहर में स्नान से पहले तिल,गोमूत्र,मिट्टी और आंवले को शरीर पर मलकर स्नान करें।

भगवान नरसिंह की प्रतिमा या चित्र के सामने दीपक जरूर जलाये।

भगवान नरसिंह प्रसाद के साथ-साथ लाल पुष्प अर्पित करें।

अपनी मनोकामना को ध्यान में रखते हुए भगवान नरसिंह के मन्त्रों का जाप करें।

भगवान नरसिंह के मन्त्रों का जाप मध्य रात्रि में भी करना सबसे उत्तम होगा।

व्रत के दिन फलाहार करें।

अगले दिन गरीबो को दान करके अपने व्रत को समाप्त करें।

Lord Narasimha – Bhagavaan Narasinh Ko Prasann Karane Ke Lie Is Tarah Se Karen Pooja

भगवान नरसिंह, श्रीहरि विष्णु के उग्र और शक्तिशाली अवतार माने जाते हैं। नरसिंह अवतार भगवान विष्णु के प्रमुख अवतारों में से एक है, इसे पांचवा अवतार माना जाता है। इस अवतार में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) ने आधा मनुष्य और आधा शेर का शरीर धारण कर दैत्यों के राजा हिरण्यकश्यप का वध किया था।

भक्त की पुकार पर उसे बचाने आ जाते हैं भगवान और फिर कर देते हैं उस पर अत्याचार करने वाले का अंत। जी हां, हम बात कर रहे हैं भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार की जो उन्होंने भक्त प्रह्लाद को दैत्य पिता हिरण्यकशिपु से बचाने के लिए लिया था। भगवान ने जिस दिन नरसिंह अवतार लिया था उस दिन वैशाख शुक्ल चतुर्दशी थी तो वैशाख महीने के शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि को नरसिंह चतुर्दशी या नरसिंह जयंती के रूप में मनाया जाता है।

नरसिंह अवतार भगवान विष्णु के दस प्रमुख अवतारों में चौथा है। इस बार यह पर्व 6 May, बुधवार को मनाया जाएगा। इस दिन भगवान नरसिंह को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखा जाता है और पूजा भी की जाती है।

KT Astrology News Navratri And Astrology 9 Days Of Changing Fortune

Csk Vs Kkr Match News IPL-13 Will Be The Longest Season In History

Naat Sharif 2020 New Heart Touching Beautiful Naat Sharif Islam Sunnat

Apna Time Aayega Lyrics Ranveer Singh Gully Boy 2019

Fancy Dress Competition How To Dress Sexy & Look Good

Redmi 10_Image Source Google Mi Neck Band_Image Source Google
%d bloggers like this: